Thursday, April 25, 2024

महिला क्रिकेट में युवा सनसनी शैफाली वर्मा का लाइफ स्कैन

भारत की उभरती महिला क्रिकेटर और धमाकेदार ओपनर शैफाली वर्मा ने बेहद की कम समय में अपनी धाक जमा ली है। उनके जीवन का एक (Life Scan of Shafali Verma) स्कैन करते हैं…

शैफाली वर्मा का जीवन परिचय (Life Scan of Shafali Verma)

केवल 18 साल की उम्र में शैफाली वर्मा ने वो कर दिखाया है, जिसका ज्यादातर क्रिकेटर सिर्फ सपना ही देख सकते हैं। इस तेजतर्रार बल्लेबाज के नाम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदार्पण करने वाली सबसे कम उम्र की भारतीय क्रिकेटर होने का रिकॉर्ड है और वह तेजी से आगे बढ़ते हुए भारतीय महिला क्रिकेट टीम की दिग्गज खिलाड़ियों में से एक बन गई है। बाधाओं के बावजूद सफल होने की दृढ़ता के साथ उनकी विस्फोटक बल्लेबाजी शैली ने देश का ध्यान खींचा है।

प्रारंभिक जीवन और पृष्ठभूमि

हरियाणा के रोहतक के पास एक छोटे से गाँव की रहने वाली शैफाली का जन्म 28 जनवरी 2004 को क्रिकेट के खेल के प्रति समर्पित एक परिवार में हुआ था। उनके पिता संजीव वर्मा है।

शेफाली का परिवार हरियाणा के स्वर्णकार जाति से संबंध रखता था। इनका परिवार की जड़ें राजस्थान के अलवर जिले की मुंडावर तहसील के झालावासा नामक गांव से संबंधित थी, जहाँ पर उनके परदादा की पीढ़ी रहती थी। उसके बाद उनकी परदादी अपने गृहराज्य  रोहतक आ गई और यहीं पर शेफाली के पूर्वज पूरी तरह बस गए। रोहतक में ही फिर शेफाली का जन्म हुआ।

शैफाली के पिता संजीव वर्मा खुद एक समय खुद एक महत्वाकांक्षी क्रिकेटर थे लेकिन उनका क्रिकेट करियर बहुत आगे नही बढ़ पाया इसलिए उन्होंने  छोटी उम्र से ही अपनी बेटी के खेल के प्रति जुनून को बढ़ावा दिया।

उन्होंने शैफाली को अपने घर मे पीछे के की जगह में बल्लेबाजी और गेंदबाजी की भरपूर ट्रेनिंग हालाँकि पेशेवर रूप से क्रिकेट खेलना उस युवा लड़की के लिए दूर की कौड़ी लग रहा था क्योंकि गाँव में लड़कियों के लिए कोई प्रशिक्षण अकादमियाँ नहीं थीं।

अपने सपनों को पूरा करने के लिए एक लड़के का भेष धारण किया

अपनी बेटी की प्रतिभा को हकीकत में बदलने के लिए दृढ़ संकल्पित शैफाली के पिता संजीव एक प्लान सोचा। जब शैफाली सिर्फ 9 साल की थी, तो उन्होंने उसके बाल छोटे कर दिए और उसे एक लड़के का रूप देकर स्थानीय क्रिकेट अकादमियों में दाखिला दिला दिया, जो केवल लड़कों के लिए थी।

इस तरह कई वर्षों तक शैफाली लड़का बनकर लड़कों के साथ प्रशिक्षण लिया। शैफाली ने एक मजबूत ऑलराउंडर के रूप में अपने प्रतिभा दिखानी शुरु कर दी। जल्द ही उसे लड़कों की अंडर-14 क्रिकेट टीम के लिए चुन लिया गया और उस टीम में शैफाली ने अच्छा प्रदर्शन किया।

पहचान उजागर हुई

जब शैफाली 11 साल की हुई तो शैफाली की पहचान उजागर हो गई। सबको पता चला गया कि शैफाली लड़की है और उसने लड़का बनकर प्रशिक्षण लिया है। तब हरियाणा और देश में क्रिकेट की स्थितिया बदल रही थी। भारत में महिला क्रिकेट एकेडमी का स्थापना हो रही थी। और क्रिकेट एकेडमी भी शैफाली की असामयिक प्रतिभा को नजरअंदाज नहीं कर सकती थीं और जब उनके क्षेत्र में महिला क्रिकेट कोचिंग सुविधाएं आखिरकार खुलनी शुरू हुईं तो शैफाली ने महिला क्रिकेट एकेडमी ने एडमीशन ले लिया।

अब शैफाली को अपनी पहचान छुपाकर ट्रेनिंग नही लेनी पड़ती थी। उसे अब खुलकर अच्छी क्रिकेट ट्रेनिंग मिल रही थी इसलिए उसकी प्रतिभा निखरती गई।

अंडर-19 पदार्पण

14 साल की उम्र में, उन्होंने अंडर-19 में पदार्पण किया और अपने आक्रामक बल्लेबाजी से चयनकर्ताओं और कोचों को प्रभावित किया। उन्होंने 2018 में महिला टी20 चैलेंज जैसे घरेलू टूर्नामेंट में लगातार अच्छा प्रदर्शन किया था। 6 मैचों में 173 रन बनाने के बाद, शैफाली ने 2019 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टी20 श्रृंखला के लिए सिर्फ 15 साल की उम्र में पहली बार भारत कॉल-अप अर्जित किया।

सबसे कम उम्र की भारतीय T20I डेब्यूटेंट

24 सितंबर 2019 को, 15 वर्षीय शैफाली दक्षिण अफ्रीका महिलाओं के खिलाफ भारत के लिए बल्लेबाजी की शुरुआत करने के लिए उतरी, और अंतरराष्ट्रीय टी20 मैचों में खेलने वाली सबसे कम उम्र की भारतीय बन गई। इसके बाद कई अच्छे स्कोर आए, जिससे टीम की ओपनर बैटर के रूप में उनकी स्थिति मजबूत हो गई।

सर्वश्रेष्ठ युवा महिला क्रिकेटर – 2019

शैफाली को उनके प्रदर्शन और क्षमता के लिए 2019 में बीसीसीआई की सर्वश्रेष्ठ महिला अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेटर (जूनियर) नामित करके पुरस्कृत किया गया था। उन्होंने तब महिला क्रिकेट में सबसे तेज टी20 अर्धशतक का रिकॉर्ड भी अपने नाम किया था।

2020 महिला टी20 वर्ल्ड कप का उभरता सितारा

दाएं हाथ की इस बल्लेबाज ने ऑस्ट्रेलिया में आयोजित 2020 महिला टी20 विश्व कप में भारत के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाली खिलाड़ी बनकर अपना दबदबा जारी रखा। उन्होंने 158+ की धमाकेदार स्ट्राइक रेट से 163 रन बनाकर कई रिकॉर्ड तोड़े। उनकी निडर बल्लेबाजी की सचिन तेंदुलकर जैसे दिग्गजों ने सराहना की, जिन्होंने उनके लिए ‘रॉकस्टार’ उपनाम रखा।

एक क्रिकेटर के रूप में आईसीसी रैंकिंग

शैफाली ने हासिल किया नंबर. अपनी निरंतरता के कारण मार्च 2021 में ICC महिला T20 बल्लेबाजी रैंकिंग में पहला स्थान प्राप्त किया। चूँकि उसने अधिक अंतर्राष्ट्रीय मैच खेले हैं, इसलिए उसने अपनी ऑफ-साइड प्ले और रोटेशनल स्ट्राइक क्षमता में सुधार करने पर काम किया है। उनका पहला एकदिवसीय अर्धशतक 2021 में आया। हालांकि वह एक आक्रामक सलामी बल्लेबाज बनी हुई हैं, शैफाली ने अधिक सफलता के लिए अपने खेल को परिपक्व किया है।

शैफाली वर्मा के बारे में कुछ रोचक तध्य

शैफाली वर्मा की अब तक की प्रेरणादायक क्रिकेट यात्रा की कुछ मुख्य झलकियाँ

  • उन्होंने उम्र, लिंग या पृष्ठभूमि की सीमाओं के बावजूद दृढ़ संकल्प और दृढ़ता के साथ अपनी महत्वाकांक्षा को आगे बढ़ाया।
  • उनकी जन्मजात प्रतिभा को कम उम्र से ही परिवार के समर्थन और कठोर ट्रेनिंग से स्वयं को निखारा गया।
  • शेफाली का भाई जी स्थानीय क्लब के लिए क्रिकेट खेलता था। उस क्लब ने उन्हें खेलने का मौका नहीं दिया क्योंकि शेफाली लड़की थी।
  • एक बार शैफाली का भाई बीमार हो गया जो हरियाणा के एक स्थानीय क्लब के लिए खेलता था। ऐसी स्थिति में शैफाली को उस टीम में जगह मिल गई और अपनी टीम के लिए खेलते हुए शैफाली ने पूरे मैच में अच्छा प्रदर्शन किया और मैन ऑफ द मैच भी बनी।
  • क्रिकेट के प्रति अपने जुनून को हासिल करने के लिए उन्होंने अपनी पहचान को लड़के के रूप में बदल दिया था ताकि क्रिकेट के ट्रेनिंग ले सकें।
  • शेफाली वर्मा प्रसिद्ध क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर को अपना आदर्श मानती हैं।
  • शेफाली वर्मा को निखारने में उनके पिता संजीव वर्मा का सबसे बड़ा योगदान रहा है, जो स्वयं एक क्रिकेटर बनना चाहते थे, लेकिन अपना सपना उन्होंने अपनी बेटी के माध्यम से पूरा किया।
  • शेफाली वर्मा क्रिकेट में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत के लिए खेलती हैं, तो राष्ट्रीय स्तर पर वह हरियाणा की टीम तथा आईपीएल में दिल्ली कैपिटल्स के लिए खेलती हैं।
  • हर टीम में वह ओपनर की भूमिका निभाती हैं।
  • शेफाली वर्मा धुआंधार बल्लेबाजी के साथ-साथ दाहिने हाथ से ऑफ ब्रेक स्पिन गेंदबाजी भी कर लेती हैं।
  • शेफाली वर्मा की वर्तमान आयु मात्र 20 साल है, यानी उनके सामने एक लंबा चौड़ा क्रिकेट करियर पड़ा है।

अंत में…

अपने अब तक के छोटे से करियर में, शैफाली वर्मा ने पहले ही ऐसी उपलब्धियां हासिल कर ली हैं जिन्हें हासिल करने में आमतौर पर क्रिकेटरों को कई साल लग जाते हैं। क्रिकेट के प्रति उनकी एकनिष्ठ निष्ठा और अंतर्निहित प्रतिभा ने क्रिकेट जगत को इस ओर ध्यान आकर्षित करने के लिए प्रेरित किया है। यदि वह इसी राह पर आगे बढ़ती रही, तो निश्चित रूप से महिला क्रिकेट में उसकी महानता तय है। शैफाली की यात्रा उभरते खिलाड़ियों, विशेषकर लड़कियों के लिए एक प्रेरणा है, जो यह साबित करती है कि किसी के क्रिकेट सपनों का पीछा करने की कोई सीमा नहीं होती।


ये भी पढ़ें…
WhatsApp channel Follow us

संबंधित पोस्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Follows us on...

Latest Articles