Sunday, March 3, 2024

करेला – स्वाद में भले ही कड़वा है पर गुणों में बेहद मीठा है।

स्वाद में कड़वा होने के कारण करेला अनेक लोगो को भले ही पसंद न हो लेकिन इसके फायदे (Benefits of Bitter Gourd) अद्भुत हैं, आइए इन अद्भुत गुणोंं को जानते हैं…

कड़वे करेले के अनोखे और मीठे गुणों को जान लें (Benefits of Bitter Gourd)

करेला एक ऐसी सब्जी है जिसे बहुत कम लोग खाना पसंद करते हैं, लेकिन करेला जहाँ जितने कम लोगों की पसंद होता है, उसके विपरीत उसमें गुणों की मात्रा बहुत अधिक होती है। करेले के कड़वे स्वाद के कारण बहुत लोग उसे खाना पसंद नहीं करते और उसके अनमोल गुणों से वंचित रह जाते हैं।

करेले के हम खुद इन्हीं गुणों को हम जानते हैं ताकि आप करेले के गुणों को जानकर करेले से प्यार करने लग जाएंगे। करेले के अंदर अनेक तरह के पोषक तत्व छुपे होते हैं। यह एक तरह से पोषक तत्वों का पिटारा है। करेले के गुणों को जानते हैं।

करेले में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं, जो शरीर के लिए बेहद लाभदायक होता है। करेले में बहुत कम कैलोरी होती है और फाइबर की मात्रा अधिक होती है, जिससे इसे खाने से पाचन शक्ति तो मजबूत होती ही है. कैलोरी भी बहुत अधिक नहीं मिलती।

100 ग्राम करेले में पाए जाने वालो पोषक तत्वों की मात्रा

  • कैलोरी : 17 ग्राम
  • कार्बोहाइड्रेट : 37 ग्राम
  • फाइबर : 28 ग्राम
  • शुगर : 10 ग्राम
  • प्रोटीन : 2 ग्राम

इसके अलावा करेले में विटामिन सी, विटामिन ए, पोटैशियम, कैल्शियम, आयरन आदि पोषक तत्व थोडी-थोड़ी मात्रा में पाए जाते हैं।

करेले के लाभ

करेला स्वाद में कड़वा होने के बावजूद गुणों से बहुत भरा हुआ है। ये मनुष्य के स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभदायक है। इसके लाभ को जानते हैं…

डायबिटीज मे लाभदायक

100 ग्राम करेले का नियमित सेवन शरीर का शुगर लेवल काफी हद तक नियंत्रित हो सकता है। करेले में चारैनटिन तथा पॉलिपेप्टाइड जैसे तत्व पाए जाते हैं जो शरीर में इंसुलिन को प्राकृतिक रूप से बनाने में सहायता करते हैं। इससे शरीर के अंदर रक्त शर्करा यानी ब्लड शुगर का लेवल नियंत्रित रहता है। करेले के गुण के कारण यह डायबिटीज के रूप में बेहद लाभदायक है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट के गुण पाए जाते हैं। इसी कारण इसका सेवन तनाव को दूर करने में मदद करता है।

वजन को नियंत्रित करने में सहायक

करेला में बेहद कम मात्रा में कैलोरी पाई जाती है तथा यह हाई फाइबर वाली सब्जी है। इसी कारण करेले को अपनी भोजन की दिनचर्या का नियमित हिस्सा बनाने से ये वजन को नियंत्रित करने में सहायक होता है। अधिक फाइबर होने के कारण इसको खाने से बहुत अधिक भूख नहीं लगती, जिससे व्यक्ति कम खाता है जो वजन घटाने के लिए आवश्यक है।

लिवर को बीमारी में लाभदायक

करेले में लिवर को स्वस्थ रखने वाले गुण पाए जाते हैं। इसका सेवन करने से लिवर की सूजन कम होती है होता है। करेले के जूस में जो गुण पाए जाते हैं, वो लिवर के लिए बेहद लाभदायक हैं।

रूसी में लाभदायक

रूसी से परेशान हैं? करेले का ताजा रस सिर पर लगाएं रूसी में लाभ मिलेगा।

गले के रोगों मे लाभदायक

जब आपकी आवाज अत्यधिक बात करने या चिल्लाने से गला बैठ गया हो या खराब हो गया हो  5 ग्राम करेले की जड़ के पेस्ट को शहर या 5 मिलीलीटर तुलसी के रस के साथ सेवन करने से गले के बैठने में काफी आराम मिलता है तथा गले की सूजन भी कम होती है। गले की सूजन कम करने के लिए करेले को सुखाकर उसे सिरके (विनेगर) के साथ पीस लें और फिर इसे गर्म करके इसका लेप गले पर लगाने से गले की सूजन कम होती है।

सर्दी जुकाम में करेला लाभदायक

5 ग्राम करेले के जड़ का पेस्ट बनाकर उसे शहद या 5 मिलीमीटर तुलसी के रस के साथ खाने से सर्दी जुकाम में काफी लाभ मिलता है तथा कफ आदि की समस्या भी मिटती है

कान के दर्द में करेला लाभदायक

कान के दर्द में करेले कान का दर्द होने पर करेले के ताजे पत्तों को कूट कर उसका रस निकाल कर उसे गुनगुना करके दो बूंद कान में डालने से कान के दर्द में आराम मिलता है।

पेट के कीड़े होने पर करेला लाभदायक

यदि पेट में कीड़े हो गए हो तो 10 से 12 मिलीलीटर के करेले पत्ते का रस पीने से पेट के कीड़े मर जाते हैं।

चर्म रोगों में करेला बेहद लाभदायक

किसी भी तरह के चर्म रोग होने पर करेले का जूस के नियमित सेवन करने से काफी लाभ मिलता है। इसके अलावा करेले के पत्ते, दालचीनी, पीपर और चावल को बादाम के तेल में मिलाकर लगाने से तमाम तरह के त्वचा विकार तथा चर्म रोगों में लाभ मिलता है।

फोड़े-फुंसी होने पर करेले के पत्ते के रस को फोड़ों पर लगाने से फोड़े-फुंसी ठीक हो जाते हैं। करेले के जूस एक उत्तम रक्तशोधक है। इसके जूस का नियमित सेवन रक्त को शुद्ध करता है। रक्त संबंधी बीमारियां ठीक होती हैं। फोड़े फुंसी कम होते हैं।

अंत में…

तो करेले के कुछ लाभ से आप परिचित हो गए। इसके और भी बहुत लाभ है। आप करेले की सब्जी से दूर न भागे और उसे जब-तब खाए कम से कम हफ्ते मे दो बार अवश्य खाएं। आपको काफी लाभ होगा।

Disclaimer
ये सारे उपाय इंटरनेट पर उपलब्ध तथा विभिन्न पुस्तकों में उलब्ध जानकारियों के आधार पर तैयार किए गए हैं। कोई भी उपाय करते समय अपने चिकित्सक के परामर्श अवश्य ले लें। इन्हें आम घरेलु उपायों की तरह ही लें। इन्हें किसी गंभीर रोग के उपचार की सटीक औषधि न समझें।

Post topic: Benefits of Bitter Gourd

करेला के फायदे, करेला के गुण, करेला के लाभ, Benefits of Bitter gourd, Herbal, Ayurveda benefits


नई पोस्ट की अपडेट पाने को Follow us on X.com (twitter) https://twitter.com/Mindians_In

नई पोस्ट की अपडेट पाने को Follow us on WhatsApp Channel https://whatsapp.com/channel/Mindians.in


अश्वगंधा के फायदे व सेवन की विधि – जरूर जानें

WhatsApp channel Follow us

संबंधित पोस्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Follows us on...

Latest Articles