Thursday, April 25, 2024

अब आ गया आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) सॉफ्वेयर इंजीनियर – Devin AI

पिछले साल ChatGPT के आने के बाद से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की दुनिय में नई हलचल मच गई थी और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस यानी AI Tools की बाढ़ आ गई थी।

ChatGPT ने AI की दुनिया में एक नई हलचल धूम मचा दी। अब आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का जमाना आ चुका है। नए-नए तरह के आई टूल्स आ रहे हैं, जो अलग-अलग कार्यों को अंजाम देते हैं। अब एक नया आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस टूल मार्केट में लांच होने वाला है, जिसे दुनिया का पहला सॉफ्टवेयर इंजीनियर कहा जा सकता है। जिस कंपनी ने इस टूल को बनाया है, उस कंपनी ने से दुनिया का पहला AI सॉफ्टवेयर इंजीनियर कहकर पेश किया है।

अमेरिका स्थित अप्लाइड एआई लैब कॉग्निशन (Cognition) ने दुनिया का पहला AI सॉफ्टवेयर इंजीनियर टूल लॉन्च कर दिया है। इस नए टूल का नाम डेविन एआई (Devin AI) रखा गया है।

Devin AI बिल्कुल सॉफ्टवेयर इंजीनियर की तरह काम करेगा यानि यह कोडिंग से लेकर वेब डेवलपमेंट के सारे कार्य कर सकेगा। इससे पहले हमने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के संसार में तरह-तरह के AI एक्सपेरिमेंट्स देखे हैं। टीवी चैनलों पर आप AI एंकर नजर आ रहे हैं तो यह आई के माध्यम से आर्टिकल राइटिंग कराई जा रही है। उनसे इमेज क्रिएट करवाई जा रही हैं और कई तरह के क्रिएटिव काम किया जा रहे हैं।

AI Tools से कोडिंग के मामले में भी हेल्प ली जा रही थी, लेकिन यह पूरी तरह सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग की तरह नई बनाए गए थे।

क्या कर सकता है डेविन AI?

cognition कंपनी ने Devin AI को इस तरह डेवलप किया है कि ये सॉफ्टवेयर इंजीनियर की तरह काम करेगा, यह कंपनी का दावा है। ये AI Tools कोडिंग कर सकेगा। इंस्ट्रक्शन के आधार पर वेबसाइट डिजाइन कर सकेगा। वेब डेवलपमेंट के सारे काम कर सकेगा।  सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट में कई तरह की आधुनिक क्षमताओं के साथ विकसित किया गया है। इसकी क्षमताओं में कोडिंग करना, वेब डेवलपमेंट आदि शामिल है।

इस टूल को इस तरह विकसित किया गया है कि यह मशीन लर्निंग एल्गोरिथम का उपयोग करके बिल्कुल दिशा निर्देशों के आधार पर इन एंड टू एंड एप्स बना सकेगा, वेबसाइट को डिजाइन कर सकेगा, सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग से संबंधित सारे जटिल प्रोग्राम को कर सकेगा, उन्हें इंप्लीमेंट कर सकेगा। ये दिए गए इंस्ट्रक्शन के आधार पर कोड जेनेरेट कर सकेगा।

कंपनी ने दावा किया है कि समय के साथ-साथ टूल निरंतर विकसित होता रहेगा और वह अपनी गलतियों को सुधारता रहेगा। ये पूरी तरह एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर्स के विकल्प के तौर पर उभरेगा।

इस डेवलप करने करने वाली कॉग्निशन कंपनी ने कहा है कि इस टूल का विकास सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग को यूजर्स के साथ सक्रिय रूप से सहयोग करने के लिए किया गया है। यह सॉफ्टवेयर इंजीनियर के काम को बेहद आसान बना देगा ।इससे उनकी काफी समय की बचत होगी और वह अधिक क्षमता से कार्य कर सकेंगे।

क्या असर पड़ सकता है?

कंपनी ने अभी इसकी विस्तृत तकनीक विशेषताओं का बहुत अधिक खुलासा नहीं किया है। जब यह मार्केट में पूरी तरह लॉन्च होकर कार्य करने लगेगा, तब इसके बारे में अधिक विस्तार से जानकारी मिलेगी।

हालांकि कोडिंग आदि जनरेट करने वाले कुछ ऐसे टूल पहले से भी मार्केट में हैं, जिनमें GitHub, OpenAI Codex,  Copilot, Polycoder, CodeT5 और Tabnine जैसे टूल के नाम प्रमुख हैं। लेकिन वह ये टूल एक AI सॉफ्टवेयर इंजीनियर का दावा नही करते है। उन्हें पूरी तरह सॉफ्टवेयर इंजीनियर की तरह विकसित नहीं किया गया है।

लेकिन कॉग्निशन कंपनी ने सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग के काम को ध्यान में रखकर इस टूल का विकास किया है और वह इसे दुनिया का पहला आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सॉफ्टवेयर इंजीनियर कहकर ही लॉन्च कर रही है जो सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग के क्षेत्र में एक नया तहलका मचा देगा।

संभव है इससे आने वाले समय में सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग की जॉब पर भी असर पड़े और सॉफ्टवेयर इंजीनियर्स के बहुत से छोटे-मोटे कार्यों के लिए इस टूल की ही मदद लेना शुरु कर दें और हेवी टास्क के लिए सॉफ्टवेयर इंजीनियर्स को रखें। इससे आने वाले समय सॉफ्टवेयर इंजीनियर्स की जॉब और उनके काम पर क्या असर पड़ेगा? क्या ये उनके लिए मददगार होगा या उनकी जॉब के लिए खतरा होगा ये देखना होगा।


ये भी पढ़ें…
WhatsApp channel Follow us

संबंधित पोस्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Follows us on...

Latest Articles