Sunday, June 16, 2024

वनडे क्रिकेट इतिहास की वो 3 यादगार पारियां, जो हमेशा याद रहेंगी।

भारत में हुए 13वें वनडे वर्ल्ड कप 2023 में  ग्लेन मैक्सवेल द्वारा 7 नवंबर 2023 को अफगानिस्तान के विरुद्ध 201 रन की पारी खेली जाने के बाद मन में यह सवाल उठा कि क्या यह पारी वनडे क्रिकेट की सर्वश्रेष्ठ ऐतिहासिक पारी है? (3 memorable innings of ODI cricket history) तो इसमें कोई शक नहीं है कि मैक्सवेल की यह पारी वर्ल्ड क्रिकेट की ऐतिहासिक पारियों में शामिल हो गई है।

जब से वनडे क्रिकेट खेला जाना शुरू हुआ है, उसके बाद से कई बार ऐसे मौके आए हैं, जब खिलाड़ियों ने कठिन परिस्थितियों में ऐसी यादगार पारिया खेली हैं, जिनकी वजह से न केवल उनकी टीम जीती बल्कि उनकी वह पारी भी लोगों के दिमाग में बस गई। ऐसी अनेक खिलाड़ियों द्वारा खेली गई पारियां हैं, लेकिन यहां पर वनडे क्रिकेट इतिहास की तीन ऐसी बेहतरीन पारियों की बात की जा रही है जिनके ऊपर और कोई पारी नहीं है।

इन तीन पारियो में पहली पारी भारत के कपिल देव द्वारा 18 जून 1983 को तीसरे वनडे वर्ल्ड कप में जिम्बॉब्वे के विरुद्ध खेली गई 175 रन की ऐतिहासिक पारी है।

दूसरी पारी दक्षिण अफ्रीका के बैटर हर्शेल गिब्स द्वारा 12 मार्च 2006 को खेली गई 175 रन की ऐतिहासिक पारी है।

तीसरी पारी में ग्लेन मैक्सवेल द्वारा 7 नवंबर 2023 को वनडे वर्ल्ड कप में खेली गई 201 रन की ऐतिहासिक पारी है।

कपिल देव की ऐतिहासिक 175 रन की पारी

कपिल देव की 175 रन की ऐतिहासिक पारी वनडे क्रिकेट की सर्वकालिक महान पारियों में से एक पारी है। कपिल देव ने 175 रन की यह पारी 18 जून 1983 में जिम्बॉब्वे के विरोद्ध खेली थी।

उस समय तीसरा वर्ल्ड कप इंग्लैंड में चल रहा था। कपिल देव उस वर्ल्ड कप में भारतीय टीम के कप्तान थे। भारत और जिंबॉब्वे के बीच इंग्लैंड के ट्यून ब्रिज वेल्स में 18 जून 1983 को मैच हुआ। मैच में टॉस जीतकर भारत ने पहले बैटिंग करने का निर्णय लिया। कप्तान कपिल देव का यह निर्णय सही साबित नही हुआ, जब भारत के पांच विकेट बेहद जल्दी गिर गए।

भारत ने अपने पहले पांच विकेट 17 रन पर ही खो दिए और भारत की टीम संकट में आ गई।  तब ऐसा लग रहा था कि भारत की टीम बेहद कम स्कोर पर आउट हो जाएगी और जिम्बॉब्वे बाद में आसानी से वह रन बनाकर मैच जीत लेगा, लेकिन कपिल देव ने भारतीय टीम के लिए संकट मोचन की भूमिका निभाते हुए एक कप्तानी पारी खेली। उन्होंने 138 गेंद का सामना करते हुए नाबाद 175 रन बनाए, जिसमें उन्होंने 16 चौके और 6 छक्के जड़े थे।

उस मैच में भारतीय टीम के विकेटकीपर सैयद किरमानी ने उनका भरपूर साथ दिया और एक छोर को संभालने रखा, दूसरे छोर पर कपिल देव तेजतर्रार खेल दिखाते रहे। सैयद किरमानी के अलावा रोजर बिन्नी और मदनलाल ने भी कपिल देव का साथ दिया था।

इससे भारत ने 17 रन पर पांच विकेट की मुश्किल परिस्थिति से उबरते हुए 8 विकेट होकर 266 रन का एक चैलेंजिंग स्कोर बना लिया। इसके बाद जिम्बॉब्वे को 235 रन पर ऑल आउट करके मैच भी जीता। उसके बाद में नया इतिहास रचा गया जब भारत ने अपना पहला वनडे वर्ल्ड कप भी जीता। इसी वनडे वर्ल्ड कप की जीत ने ही भारत में क्रिकेट की दशा बदल दी।

कपिल देव ने 175 रन की वह शानदार पारी नही खेली होती तो भारत सेमीफाइनल ही नही खेल पाता और वर्ल्डकप भी नही जीत पाता। कपिल देव की वह 175 रन की पारी वनडे क्रिकेट इतिहास की यादगार पारियों में शामिल है।


हर्शेल गिब्स की 175 रन की पारी

यह मैच 12 मार्च 2006 को ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के बीच दक्षिणी अफ्रीका के जोहानिसबर्ग के वांडरर्स मैदान में खेला गया था। तब पहली बार वनडे क्रिकेट में 400 रन का स्कोर बना था।

आस्ट्रेलिया ने पहले बैटिंग करते हुए 434 रन का विशाल स्कोर खड़ा कर दिया। उस समय 400 के पार स्कोर देखकर ऐसा लग रहा था कि दक्षिणी अफ्रीका यह मैच शत-प्रतिशत हार जाएगा, लेकिन दक्षिण अफ्रीका के खिलाड़ियों ने कमाल कर किया और हर्शेल गिब्स की इसमें सबसे बड़ी भूमिका रही।

दक्षिण अफ्रीका ने साहसपूर्वक बैटिंग करते हुए 438 रन बनाकर मैच जीत लिया। इतने बड़े रन चेज का रिकॉर्ड आज तक नहीं तोड़ा जा सका है। हर्शेल में 175 रन की ऐतिहासिक पारी खेली, जिसमें उन्होंने 111 गेंद का सामना किया। हर्शेल गिब्स के साथ कप्तान ग्रीन स्मिथ ने उनका साथ दिया और 90 रन बनाए। बाद में मार्क बाउचर ने भी 50 रन बनाए।

इस मैच में दोनों टीमों ने मिलकर कल 872 रन बनाए थे, जो भी एक रिकॉर्ड है। इससे पहले इसी मैच में कप्तान रिकी पोंटिंग ने 105 गेंदों में 164 रन की पारी खेली थी, जिसके कारण ही ऑस्ट्रेलिया 434 रन का बड़ा स्कोर बना पाया था।

हर्शेल गिब्स  की 175 रन की वह ऐतिहासिक पारी संकट महान पारियों में से एक है क्योंकि इस पारी की बदौलत दक्षिणी अफ्रीका ने इतने विशाल स्कोर को आसानी से पूरा करके मैच जीता।


ग्लेन मैक्सवेल की 201 रन की अद्भुत पारी

यह पारी 7 नवंबर 2023 को 13वें वनडे वर्ल्डकप में खेली गई। यह ग्लेन मैक्सवेल द्वारा खेली गई पारी ऐतिहासिक पारिया वनडे वर्ल्ड कप वनडे क्रिकेट की ऐतिहासिक पारियों में शामिल हो गई है।

13वें वनडे वर्ल्ड कप क्रिकेट टूर्नामेंट में ऑस्ट्रेलिया और अफगानिस्तान के बीच ग्रुप मैच में अफगानिस्तान ने पहले बैटिंग करते हुए 5 विकेट होकर 291 रन बनाए। ऑस्ट्रेलिया ने जब बैटिंग करना आरंभ किया तो ऑस्ट्रेलिया के विकेट जल्दी-जल्दी गिरने लगे और 91 रन पर उसके साथ 7 विकेट गिर चुके थे। ऐसा लग रहा था कि ऑस्ट्रेलिया अब मैच हर जाएगा, लेकिन जब ग्लेन मैक्सवेल बैटिंग करने आए तो फिर ऐसा जमे कि फिर अफगानिस्तान का कोई बॉलर उनको आउट नहीं कर सका।

ग्लेन मैक्सवेल को बैटिंग करते समय अनेक समस्याएं भी हुई और उनको क्रैम्प की तकलीफ का सामना करना पड़ा, लेकिन वह तकलीफ झेलते हुए भी बैटिंग करते रहे और उनका बखूबी साथ दिया। कप्तान पैट कमिंस ने बखूबी साथ दिया। दोनों ने मिलकर 202 रन की साझेदारी भी की।

ग्लेन मैक्सवेल ने 128 गेंद में 201 रन की ऐतिहासिक पारी खेलकर ऑस्ट्रेलिया को न केवल संकट से निकाला बल्कि मैच भी जीता और ऑस्ट्रेलिया सेमीफाइनल में भी पहुंच गया। यह पारी वनडे वर्ल्ड कप की ऐतिहासिक महान पारियों में एक पारी है।


ये भी पढ़ें…
WhatsApp channel Follow us

संबंधित पोस्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Follows us on...

Latest Articles