Thursday, April 25, 2024

POMIS – पोस्ट ऑफिस की इस मंथली इन्कम योजना में निवेश करके आप भविष्य के लिए अच्छी मासिक आय का प्रबंध कर सकते हैं। पति-पत्नी दोनों साथ में भी एप्लाई कर सकते हैं।
P

इस पोस्ट मे हम पोस्ट ऑफिस द्वारा चलाई जाने वाली POMIS (Post Office Monthly Income Scheme) बचत योजना के बारे में बात करेंगे, जो आपको अपने भविष्य के लिए स्थायी और मासिक आय की गारंटी देती है। इस योजना के बारे में जानते हैं…

पोस्ट ऑफिस मासिक इन्कम योजना – POMIS (Post Office Monthly Income Scheme)

अस्थिर शेयर बाजारों और कम बैंक जमा दरों के समय में, पोस्ट ऑफिस की मासिक आय योजना (POMIS) नियमित आय के लिए एक सुरक्षित और स्थिर निवेश विकल्प प्रदान करती है।

POMIS योजना पोस्ट ऑफिस की ऐसी मासिक बचत योजना है जो आपको अपने भविष्य के लिए एक स्थायी मासिक आय की गारंटी देती है। आपको मासिक आय के साथ-साथ आपकी जमा राशि भी ज्यों की त्यों सुरक्षित रहती है।

पोस्ट ऑफिस की यह मासिक बचत योजना में आप अकेले या पति-पत्नी दोनों निवेश कर सकते हैं। सिंगल अकाउंट में निवेश के लिए अधिकतम राशि सीमा ₹9 लाख रुपए तथा पति या पत्नी के साथ ज्वाइंट अकाउंट में अधिकतम निवेश सीमा 15 लाख रुपए है।

निवेश की अवधि 5 साल की है। निवेश की मैच्योरिटी हो जाने पर हर महीने ब्याज के रूप में अच्छी खासी कमाई हो सकती है और आपकी निवेश राशि भी पूरी तरह सुरक्षित रहेगी।

वर्तमान समय में पोस्ट ऑफिस कि इस बचत स्कीम में मौजूदा ब्याज दर 7.4% है। अगर पति और पत्नी दोनों जॉइंट अकाउंट खोलकर उसमें 15 लाख रुपए तक का निवेश करते हैं तो मौजूदा ब्याज दर के हिसाब से हर साल ₹1,11000 का रिटर्न मिलेगा यानी कुल 5 साल में 15 लाख रुपए की राशि पर ₹5,55000 की कमाई होगी और आपकी 15 लाख रुपए की राशि भी सुरक्षित रहेगी।

पूरी राशि को अगर हर महीने में बांटकर देखा जाए तो हर महीने की आमदनी ₹9250 होगी जो एक अच्छी मासिक आई का स्रोत बनेगी।

यदि सिंगल अकाउंट खोलकर आप इसमें ₹900000 तक का निवेश करते हैं तो हर साल 1 साल में 6,600 और पूरे 5 साल में 3 लाख 3,3000 ब्याज के रूप में प्राप्त होंगे। इसको अगर महीने में बांटा जाए तो 5,550 हर महीने कमाई होगी।

इस योजना का लाभ कैसे उठा सकते हैं?

  • इस योजना में लाभ के लिए भारत का नागरिक होना जरूरी है और उसके पास आवश्यक पहचान पत्र होने जरूरी है।
  • इस योजना में निवेश के लिए पति-पत्नी के अलावा बच्चों के नाम से भी निवेश किया जा सकता है।
  • 10 साल से कम उम्र के बच्चे के लिए निवेश करने पर उसके माता-पिता या अभिभावक संरक्षक होंगे।
  • योजना में निवेश करने के लिए पोस्ट ऑफिस में एक बचत खाता खोलना पड़ेगा।
  • बचत खाता खोलने के लिए आवश्यक पहचान पत्र के रूप में आधार कार्ड और पैन कार्ड होना जरूरी है।

क्या 5 साल से पहले पैसा निकाल सकते हैं?

POMIS योजना में निवेश करने के 1  साल बाद आप अपना पैसा कभी भी निकाल सकते हैं, लेकिन 1 साल से पहले आप अपना पैसा नहीं निकाल पाएंगे।

1 साल के बाद और 5 साल से पहले यदि आपको पैसे की जरूरत पड़ती है और आप पैसा निकालना चाहते हैं तो आपको पेनल्टी देनी पड़ेगी।

1 साल की अवधि पूरा होने के बाद अगर आपको पैसे की जरूरत पड़ती है और आप मैच्योरिटी पूरा होने से पहले ही अपना पैसा निकालना चाहते हैं, तो 1 साल से 3 साल की अवधि के बीच पैसे निकालने पर आपको आपकी कुल जमा रकम का 2% पेनल्टी के रूप में देना होगा।

यदि 3 साल से 5 साल की अवधि के बीच आप पैसा निकालते हैं तो आपको आपकी कुल जमा रकम पर एक 1% पेनल्टी के रूप में देना होगा।

वरिष्ठ नागरिकों के लिए आय अधिक हो सकती है जिन्हें अतिरिक्त 0.5% ब्याज दर मिलती है। POMIS ब्याज आय कर योग्य है।

POMIS में निवेश आपको अपनी पूंजी की सुरक्षा के साथ आय स्थिरता प्रदान करती है, जो इसे सेवानिवृत्त लोगों, वरिष्ठ नागरिकों या जोखिम से बचने वाले निवेशकों के लिए एक सुरक्षित बचत निवेश है।

पूछे जाने वाले प्रश्न

Q1. POMIS में न्यूनतम और अधिकतम निवेश सीमा क्या है?

उत्तर. न्यूनतम 1,500 रुपये, अधिकतम सीमा सिंगल अकाउंट के लिए 9 लाख रुपये और ज्वाइंट एकाउंट (पति-पत्नी) के लिए 15 लाख है।

Q2. POMIS योजना की अवधि क्या है?

उत्तर. 5 वर्ष है, जिसे आगे 5 वर्ष और बढ़ाया जा सकता है।

Q3. POMIS में ब्याज का भुगतान कितनी बार किया जाता है?

उत्तर. ब्याज का भुगतान मासिक आधार पर किया जाता है।

Q4. क्या POMIS खाता परिपक्वता से पहले बंद किया जा सकता है?

उत्तर. हाँ, एक वर्ष के बाद थोड़े से जुर्माने के साथ समय से पहले बंद करने की अनुमति है।

Q5. क्या POMIS योजना के तहत अर्जित ब्याज कर योग्य है?

उत्तर. हां, अर्जित ब्याज आयकर के अधीन है।


ये भी पढ़ें…
WhatsApp channel Follow us

संबंधित पोस्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Follows us on...

Latest Articles