Thursday, April 25, 2024

Limit of Saving bank Account – बैंक के बचत खाते में कितना पैसा जमा कर सकते हैं, क्या है अधिकतम लिमिट?
L

देश में आबादी का एक बड़ा हिस्सा बैंक खाता रखता है। इन लोगों का अधिकांश वित्तीय लेनदेन ऐसे बैंक खातों के माध्यम से निर्देशित होता है। इनमें से अधिकांश खाताधारक खाते को बनाए रखने के लिए न्यूनतम शेष राशि (Limit of Saving bank Account) की आवश्यकता से परिचित हैं।

हालाँकि, इसके अलावा, बैंक खातों से संबंधित भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) द्वारा स्थापित कई दिशानिर्देश मौजूद हैं, जिनसे सभी को जानकारी होनी चाहिए। इनमें खातों में नकद जमा की सीमा, एटीएम-डेबिट कार्ड पर लगाए गए शुल्क, चेक से संबंधित शुल्क आदि जैसे पहलू शामिल हैं।

किसी खाते में रखी जा सकने वाली अधिकतम स्वीकार्य धनराशि को स्पष्ट करने से पहले, यह ध्यान देने योग्य है कि सभी खातों के लिए न्यूनतम शेष सीमा लागू है। न्यूनतम शेष राशि की वारंटी का उल्लंघन करने पर बैंक द्वारा जुर्माना लगाया जाता है। अलग-अलग बैंकों के बचत खातों में अपनी न्यूनतम शेष राशि अलग-अलग है।

बैंकों के बचत खातों में न्यूनतम राशि की सीमा कितनी है? (Limit of Saving bank Account)

सरकारी में ये न्यूनतम सीमा शहरों के लिए ₹1000 और ग्रामीण क्षेत्रों के लिए ₹500 है।मल्टीनेशनल और निजी बैंकों में न्यूनतम राशि की सीमा अलग-अलग होती है। किसी बैंक में ₹5000 तो कहीं पर ₹₹10000 से 25000 तक भी है।

बैंक के बचत खाते में पैसा जमा करने की अधिकतम सीमा कितनी होती है?

बचत खातों में नकद जमा भी परिभाषित सीमा के अधीन होती हैं। आयकर अध्यादेश के अनुसार, एक वित्तीय वर्ष के दौरान बचत खातों में 10 लाख रुपये तक की नकद जमा राशि स्वीकार्य है। यदि कोई 10 लाख रुपये से अधिक की राशि को जमा करता है तो बैंक आयकर विभाग को सूचित करता है। ऐसी स्थिति में जमा करने वाले व्यक्ति और खाताधारक को पैसे का स्रोत बताना होगा। पैसे का सही स्रोत न बता पाने पर आयकर विभाग उस राशि पर जुर्माना भी लगा सकता है।

इसके अलावा, 50,000 रुपये से अधिक की नकद जमा के लिए जमाकर्ता द्वारा पैन प्रमाण-पत्र प्रस्तुत करना आवश्यक है। नकद जमा की दैनिक सीमा 1 लाख रुपये है। जो रोज बैंक में रकम जमा नही करते हैं उनके नकदी जमा करने की यह सीमा 2.5 लाख रुपये तक बढ़ाई जा सकती है।

यदि खाताधारक अपने बैंक खाते में 10 लाख रुपये की तय सीमा से अधिक की राशि को जमा करता है या उसके बैंक खाते में एक साथ 10 लाख रुपए की धनराशि किसी जमा की जाती है तो खाताधारक को उन जमा पैसों का स्रोत बताना होगा। ऐसी नकद जमा पैसों के स्रोत को न बता पाने के स्थिति में और नकदी स्रोतों का खुलासा न करने पर जमा राशि पर 60 प्रतिशत तक कर लगाया जा सकता है, साथ ही 25 प्रतिशत अधिभार और 4 प्रतिशत उपकर भी लगाया जा सकता है।

सामान्यतः बचत खाते नागरिकों द्वारा अपनी आय को सुरक्षित रखने के लिए खोले जाते हैं। प्रत्यक्षतः, ऐसे बचत खातों में रखे गए धन पर कोई कठोर सीमा लागू नहीं की जाती है।

हालाँकि, कर अधिकारियों द्वारा पूछताछ किए जाने पर स्रोत को स्पष्ट करने में असमर्थ होने पर असामान्य रूप से उच्च रकम जमा करने से जांच शुरू हो सकती है। बशर्ते धन प्रवाह के स्रोत वैध हों, खाताधारकों को परेशान होने की जरूरत नहीं है।

यदि बचत खाताधारक नियमित रूप से अपने बैंक खाते में थोड़ी-थोड़ी पैसे जमा करता रहता है तो उस पर कोई कार्रवाई की संभावना नहीं होती। लेकिन बचत बैंक खाते में अचानक होने वाले संदेहास्पद लेनदेन की स्थिति में बैंक आयकर विभाग को सूचित कर सकता है।

ऐसी स्थिति में खाता धारक को अपने बैंक में जमा राशि का पर्याप्त और मान्य स्रोत बताना होगा। यदि पैसे का स्रोत कानूनी रूप से सही है तो बैंक में जमा धनराशि पर कोई जुर्माना नहीं लगेगा, लेकिन यदि खाताधारक पैसे आने के सही स्रोत को नहीं बता पाया तो ऐसी स्थिति में उसकी उस रकम पर भारी भरकम जुर्माना लग सकता है जो उसने अपने खाता में जमा कराई है या उसको कहीं से प्राप्त हुई है।

दीर्घ अवधि के तक पैसे जमा कराने के लिए क्या बेहतर

बचत बैंक खाते में  लोग बचत करने के उद्देश्य से पैसे जमा करते हैं। बदले में ब्याज के रूप में बहुत मामूली रिटर्न मिलता है यदि बैंक बचत बैंक खाते में आपने जो रकम जमा कराई है वह आप लंबे समय तक बचत खाते में रखना चाहते हैं तो उसे उस राशि को सावधि जमा खाता यानी आरडी या एफडी के रूप में जमा कराएं।

इससे आपको अच्छा-खासा ब्याज का रिटर्न मिल जाएगा लेकिन यह रकम आपकी निश्चित समय के लिए जाम हो जाएगी और आप उसमें से जरूरत पड़ने पर पैसा निकाल नहीं सकते यदि आप पैसे निकलेंगे तो आपको अपनी एफडी या आरडी तोड़नी पड़ेगी।

इसके अतिरिक्त, उच्च मूल्य बचत खाते की शेष राशि के लिए, अधिशेष धन को सावधि जमा में परिवर्तित करने की सलाह दी जाती है। जबकि बचत खातों पर केवल नाममात्र ब्याज भुगतान मिलता है, 7 दिनों से लेकर कई वर्षों तक की अवधि के लिए सावधि जमा उपकरण बचत पर बेहतर रिटर्न प्रदान करते हैं।


ये भी पढ़ें…
WhatsApp channel Follow us

संबंधित पोस्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Follows us on...

Latest Articles