हम समर्थ शक्तिवान और हम एक दुर्बल को लाएँगे पंक्ति के माध्यम से कवि ने क्या व्यंग्य किया है?

‘हम समर्थ शक्तिवान और हम एक दुर्बल को लाएंगे’ इस पंक्ति के माध्यम से कवि ने मीडिया के दोहरे चरित्र पर व्यंग्य किया है।  कवि के अनुसार मीडिया के लोग स्वयं को बहुत समर्थ शक्तिवान समझते हैं। वह समझते हैं कि वह जैसा चाहे, वैसा कार्यक्रम बना सकते हैं और किसी की भी पीड़ा दिखाकर वाहवाही लूट सकते हैं।

वह स्वयं को समर्थ शक्तिवान कहकर अपनी शक्ति का प्रदर्शन कर रहे हैं और हम एक दुर्बल को लाएंगे कहकर वह एक दुर्बल व्यक्ति की पीड़ा को बेचकर अपने कार्यक्रम को सफल बनाना चाहते हैं। किसी  दुर्बल व्यक्ति की पीड़ा को बेचकर अपनी जेबे भरने पर भी उन्हें लज्जा का अनुभव नहीं हो रहा है। हम एक दुर्बल को लाएंगे के माध्यम से वह अपनी क्रूरता को प्रकट कर रहे हैं, जिसमें वह एक दुर्बल व्यक्ति को अपने कार्यक्रम में लाकर उसे अपने हाथ की कठपुतली बनाकर उसे अपनी मर्जी के अनुसार बुलवायेंगे और फिर उसकी करुणा और पीड़ा को बेच कर अपने कार्यक्रम को सफल बनाएंगे। यह उनकी क्रूरता की पराकाष्ठा है क्योंकि वह एक दुर्बल व्यक्ति का भला नहीं कर रहे बल्कि उसे अपने हाथों की कठपुतली बनाकर उसकी पीड़ा को बेचकर अपने हित को साध रहे हैं।

पाठ के बारे में…

इस पाठ में रघुवीर सहाय द्वारा रचित ‘कैमरे में बंद अपाहिज’ कविता प्रस्तुत की गई है। इस कविता के माध्यम से कवि ने शारीरिक चुनौती को खेलने वाले व्यक्ति की मनोदशा और उससे लाभ उठाने वाले दूरदर्शन कार्यक्रमों की आलोचना ही है। कवि का कहना है कि कैमरे के सामने शारीरिक अक्षमता झेल रहे व्यक्ति से कैसे-कैसे सवाल पूछे जाते हैं और कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए उसकी जैसी भाव-भंगिमा की अपेक्षा की जाती है, उससे अपाहिज व्यक्ति का कोई भला नहीं होता बल्कि उसे पीड़ा का ही सामना करना पड़ता है।

कवि ने यह बात बताने का प्रयास किया है ही शारीरिक चुनौती झेलने वाले लोगों के प्रति संवेदनशील नजरिया अपनाने की जगह लोग उनकी शारीरिक क्षमता से भी लाभ उठाने की कोशिश करते हैं और उनकी कमजोरी को दिखाकर कार्यक्रम बनाकर वाह-वाही तो बटोर लेते हैं, लेकिन यह एक प्रकार की क्रूरता है।रघुवीर सहाय हिंदी साहित्य के एक जाने-माने कवि रहे हैं, जिन्होंने अनेक मर्मस्पर्शी और संवेदनशील कविताओं की रचना की। उनका जन्म उत्तर प्रदेश के लखनऊ शहर में सन 1929 में हुआ था। वे समकालीन हिंदी कविता के संवेदनशील नागर चेहरा माने जाते हैं। उन्होंने अपनी कविताओं में सड़क, चौराहा, अखबार, दफ्तर, संसद, रेल, बस और बाजार आदि की भाषा में कविताएं रखी है। उन्होंने सामान्य जीवन और घरवाले के चरित्रों पर कब्जा लिखकर अपनी इन्हीं अपनी चेतना का स्थाई पात्र बनाया।

उनकी प्रमुख रचनाओं में अज्ञेय द्वारा संपादित दूसरा सप्तक है, इसके अलावा उन्होंने आरंभिक कविताएं , चिड़ियों पर धूप में, आत्महत्या के विरुद्ध, हँसो-हँसो जल्दी हँसो जैसी कविताओं की रचना की एक प्रसिद्ध पत्रकार भी रहे और ऑल इंडिया रेडियो के लिए हिंदी समाचार विभाग से संबद्ध रहे। इसके अलावा वह नवभारत टाइम्स समाचार पत्र और दिनमान पत्रिका से भी संबद्ध थे। उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार प्राप्त हो चुका है। उनका निधन 1990 में दिल्ली में हुआ।

संदर्भ पाठ :

“कैमरे में बंद अपाहिज” – रघुवीर सहाय (कक्षा – 12, पाठ – 4, हिंदी, आरोह भाग-2)

 

 

इस पाठ के अन्य प्रश्न

कैमरे में बंद अपाहिज करुणा के मुखौटे में छिपी क्रूरता की कविता है- विचार कीजिए।

कविता में कुछ पंक्तियाँ कोष्ठकों में रखी गई हैं- आपकी समझ से इसका क्या औचित्य है?

 

हमारी सहयोगी वेबसाइटें..

mindpathshala.com

देशप्रेम दिखावे की वस्तु नही है (निबंध)

मेरा प्रिय पालतू जानवर कुत्ता (निबंध)

उपेन्द्रनाथ अश्क : हिंदी-उर्दू-पंजाबी के कथाकार

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ – निबंध

त्योहारों का जीवन में महत्व और संदेश पर निबंध

फणीश्वरनाथ रेणु का जीवन परिचय 

ईमानदारी – एक जीवन शैली (निबंध)

बाल दिवस पर निबंध – 14 नवंबर

पर्यावरण पर निबंध

जीवन में अनुशासन का महत्व

प्रदूषण पर निबंध

प्लास्टिक पर प्रतिबंध (निबंध)

समाचार पत्रों का महत्व (निबंध)

जल ही जीवन है (निबंध)

अनेक शब्दों के लिए एक शब्द (भाग-7) – शब्द समूह के लिए एक शब्द

आज का युग विज्ञान का युग (निबंध)

 

miniwebsansar.com

अजवाइन के गुण और फायदे

म्युचुअल फंड क्या है? Mutual Fund in Hindi

लौंग : छोटी सी मगर, लौंग के फायदे बड़े-बड़े

पॉलिग्राफ (Polygraph Test) टेस्ट और नार्को (Narco Test) क्या हैं? (Polygraph Test Narco Test)

शहद के फायदे

हल्दी के फायदे

मुलेठी के गुण और लाभ

स्वच्छ भारत अभियान का अर्थ : एक कदम स्वच्छता की ओर 

अश्वगंधा के फायदे व सेवन की विधि

तुलसी : बेहद गुणकारी – फायदे ही फायदे

संकल्प-बल-कुछ-भी-असंभव-नहीं

बुरांश फूल – लाभ और उपयोग

Leave a Comment