mindians

General

Updated on:

किसके आने से लेखिका के जालीघर का वातावरण क्षुब्ध हो गया? ​
0 (0)

कक्षा-7 पाठ-15, नीलकंठ - महादेवी वर्मा

‘कुब्जा’ नामक मोरनी आने से जालीदार का वातावरण क्षुब्ध हो उठा था। कुब्जा एक मोरनी थी, अपने नाम के अनुरूप ही कुब्जा थी।

वह ईर्ष्यालु स्वभाव की थी। वह सभी से लड़ती रहती थी, इसी कारण उसकी जालीघर के अन्य पशु-पक्षियों से नहीं बनती थी। वह दूसरी मोjनी राधा से ईर्ष्या करती थी और हमेशा उसको चोंच मारकर घायल कर देती थी। वह नीलकंठ मोर से प्रेम करती थी और इसी कारण वह राधा मोरनी से ईर्ष्या करती थी क्योंकि नीलकंठ और राधा मोर-मोरनी में आपस में प्रेम था।

 

कुछ और..

‘नीलकंठ’ कहानी जोकि महादेवी वर्मा द्वारा लिखी गई है, उसमें महादेवी वर्मा ने एक मोर नीलकंठ और राधा एवं कुब्जा नाम की दो मोरनियों को अपने घर में पाला था। नीलकंठ मोर की हो आधार बनाकर उन्होने ‘नीलकंठ’ कहानी की रचना की है।

महादेवी वर्मा का पशु पक्षियों से बेहद लगाव रहा है। उन्होंने अपने घर में अनेक पशु पक्षी पाल रखे थे। अलग-अलग पशु पक्षियों के संदर्भ में उन्होंने अनेक संस्मरणात्मक कहानियाँ लिखी है, जिनमें नीलू, गिल्लू, गौरा आदि के नाम प्रमुख हैं।

 

संदर्भ पाठ

‘नीलकंठ’ लेखिका – महादेवी वर्मा (कक्षा – 7, पाठ -15)

 

ये भी देखें…

‘नीलू’ पाठ हिन्दी साहित्य की कौन सी गद्य विधा है?

‘गिल्लू’ पाठ में लेखिका की मानवीय संवेदना अत्यंत प्रेरणादायक है । टिप्पणी लिखिए ।

Our Score
Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

Leave a Comment