कहानी में मोटे मोटे किस काम के हैं, किनके बारे में और क्यों कहा गया?


Updated on:

कहानी में ‘मोटे-मोटे किस काम के हैं’ यह घर के बच्चों के लिए कहा गया है। बच्चों के माता-पिता को ऐसा लगता है कि मोटे-मोटे बच्चे किसी काम के नहीं हैं, वे केवल दिनभर नौकरों पर हुकुम चलाते रहते हैं, खाना पीना खाते हैं, फिर सोते हैं, धमाचौकड़ी करते हैं। घर का कोई काम नहीं करते और आराम करते हैं। इसीलिए कहानी में मोटे-मोटे किस काम के घर के बच्चों के लिए कहा गया है।विशेष :
‘कामचोर’ कहानी ‘इस्मत चुगताई’ द्वारा लिखी गई कहानी है, उसमें एक समृद्ध परिवार के आलसी बच्चों के बारे में बताया गया है, जो आलस के कारण कोई काम नहीं करना चाहते।  उनसे काम कराने के लिए उनके माता-पिता को उपाय आजमाने पड़े।

संदर्भ :
कक्षा -8, पाठ – 9, कामचोर, इस्मत चुगताई

कुछ और जाने :

धरती माता ऊंच नीच का भेद क्यों नहीं करती?

लेखक ने स्वीकार किया है कि लोगों ने उन्हें भी धोखा दिया है, फिर भी वह निराश नहीं है आपके विचार से इस बात का क्या कारण हो सकता है?

Our Score
Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

Leave a Comment